OTP Verification क्या हैं और क्यों हैं जरुरी | TrechInfo

आजकल हमलोग सारा काम घर बैठे ही करने लगे हैं। चाहे मार्केट से खाना मंगवाना हो, या चाहे शॉपिंग करना हो हर काम अब लगभग ऑनलाइन होने लगी हैं और  इनकी पेमेंट भी ऑनलाइन ही करने लगे हैं। हमारी दुनिया अब बहुत ही तेजी से डिजिटल मार्केटिंग में तब्दील हो रही हैं ऐसे में हमारी सुरक्षता भी बहुत मायने रखती हैं।

one-time-passsword-kya-hai


हम जब भी ऑनलाइन ट्रांजक्शन करते हैं चाहे वो शॉपिंग करना हो या फिर रिचार्ज करना हो, पेमेंट प्रोसेस कम्पलीट होने से पहले रेजिस्टर्ड फ़ोन नंबर पर एक कोड गिरता हैं जब हम उन कोड को फॉर्म में डालते हैं उसके बाद ही हमारी पेमेंट कम्पलीट होती हैं। हमारी रेजिस्टर्ड फ़ोन नंबर पर जो कोड गिरता हैं उसी को ही OTP कहा हैं। आप सभी भी इसके बारे में जरूर सुना होगा और इसका प्रयोग भी जरूर किया होगा लेकिन इसके बावजूद क्या आपको पता हैं की " OTP क्या होता हैं और इसका प्रयोग क्यों किया जाता हैं "



OTP क्या होता हैं ?

OTP का फुल फॉर्म होता हैं " One Time Password " आपको इसका पूरा नाम से ही पता चल गया होगा की OTP एक ऐसा कोड होता हैं जिसका प्रयोग सिर्फ एक बार ही किया जा सकता हैं। ये एक तरह का सिक्योरिटी कोड होता हैं ये 4 से  6 अंको तक भी हो सकता हैं। जब हम कोई ऑनलाइन पेमेंट करते हैं या किसी E-Commerse वेबसाइट जैसे की फ्लिपकार्ट अमेज़न वगैरह से हम शॉपिंग करते हैं और अपने बैंक अकाउंट या ATM से पेमेंट करते हैं तो ट्रांजेक्शन के वक़्त फॉर्म में जब हम अपनी बैंक डिटेल या ATM डिटेल को डालते हैं तो उसमे रेजिस्टर्ड फ़ोन नंबर पर एक सिक्योरिटी कोड गिरता हैं।  ये कोड 4 से  6 अंको तक का भी हो सकता हैं।  जब हम उस कोड को फॉर्म में डालते हैं तभी हमारी पेमेंट कम्पलीट होती हैं। 

  

OTP क्यों होता हैं जरुरी ?

आपलोगो को पता होगा की जैसे जैसे हमारी दुनिया डिजिटल होती जा रही हैं वैसे वैसे ही ऑनलाइन फ्रॉड भी तेजी से बढ़ रही हैं। आपकी थोड़ी से गलती से ही आपके बैंक अकाउंट में सेंध लग सकती हैं। ऐसे ही मुश्किलों से निपटने और उसे रोकने के लिए OTP सर्विस को लागु किया गया। मान लीजिये आपके कोई पेमेंट एप्लीकेशन जैसी की Paytm, PayPhone etc जो की आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा हो उसका यूजरनेम और पासवर्ड आपके किसी निकटवर्ती लोगो को पता हो, तो हो सकता हैं की वो आपसे छुपकर आपके बैंक अकाउंट  को खाली कर दे, लेकिन अगर आप अपने अकाउंट में अपने किसी फ़ोन नंबर को ऐड किया होगा तो उसपर एक OTP कोड गिरेगा और बिना वो OTP कोड डाले कोई भी बंदा आपके अकाउंट से पैसे नहीं निकाल पायेगा। अगर कोई बंदा आपके ATM का पासवर्ड जानता हैं तो हो सकता हैं की वो आपसे छुपकर पैसे निकाल ले। ऐसे में अगर आप अपने फ़ोन नंबर को उसमे रजिस्टर किया होगा तो जैसे ही वो बंदा थोड़े से भी रूपये निकालेगा आपके रेजिस्टर्ड फोन नंबर पर OTP जरूर मिलेगा जिससे आप समय रहते उसपर कोई सख्त कदम उठा सकते हैं। ये प्रोसेस अक्सर शॉपिंग के वक़्त भी होता हैं जैसे ही हम कोई प्रोडक्ट खरीदते हैं और पेमेंट फॉर्म में डिटेल फ़ीलिंग करते हैं तो उसके बाद हमारी रेजिस्टर्ड फ़ोन नंबर पर एक OTP गिरता हैं और उसे डालने के बाद ही हमारी पेमेंट कम्पलीट होती हैं।


ये भी पढ़ें: जिओ का एलान सबको मिलेगा फ्री टीवी 


OTP Verification के होने से फायदे।

OTP से लगभग हमारे सभी अकाउंट जैसे की Google Account, Payment Applications, Net Banking जैसे अकाउंट सुरक्षित रहते हैं। OTP की यही खाशियत होती हैं की OTP में जेनेरेट होने वाली कोड को सिर्फ एक ही बार इस्तेमाल किया जा सकता हैं उसके बाद वो अपने आप ही एक्सपायर हो जाती हैं ऐसे में अगर आपके अकॉउंट की यूजरनेम और पासवर्ड भी किसी को पता हो तो बिना OTP कोड का इस्तेमाल किया कोई भी पेमेंट नहीं कर सकता। हम जितने बार भी ऑनलाइन पेमेंट करते हैं या हम अपने किसी अकाउंट में एक्सेस करना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें OTP वेरिफिकेशन को कम्पलीट करना होगा। जैसे ही हम फॉर्म में बैंक या अकाउंट डिटेल डालते हैं और उसमे रेजिस्टर्ड ईमेल आईडी या फ़ोन नंबर पर एक OTP कोड आ जाता हैं जिसे डालने के बाद ही हम उसे एक्सेस कर सकते हैं। ये कोड हर बार अलग अलग जेनरेट होता है और इसकी एक निश्चित समय अंतराल होती हैं उस टाइम के अंदर ही आपको उस कोड का यूज कर लेना होगा नहीं तो समय अंतराल ख़तम हो जाने के बाद वो कोड एक्सपायर हो जाता हैं।


ये भी पढ़ें: इस तरह जिओ ने बदली भारतीय इंटरनेट की किस्मत 



OTP Verification के होने से नुकसान

ईमेल ओटीपी वेरिफिकेशन दूसरे ओटीपी वेरिफिकेशन से कम सिक्योर होता है। जो SMS करके ओटीपी भेज जाते हैं वह थर्ड पार्टी मैसेजिंग का यूज़ करते हैं। एक से ज्यादा बाहर इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। अगर मान लो आपकी ट्रांजैक्शन कैंसिल हो जाती है तो आपको दोबारा OTP का इस्तेमाल करना पड़ेगा। कई बैंक के पैसे ट्रान्सफर पर सिर्फ OTP का इस्तेमाल होता है जो की ज्यादा Secure सिस्टम नही है।



OTP का इस्तेमाल कहाँ कहाँ किया जा सकता हैं ?

OTP का इस्तेमाल भिन्न भिन्न जगहों पर किया जा सकता हैं। इसका इस्तेमाल नेट बैंकिंग और ऑनलाइन पेमेंट के दौरान किया जाता हैं। यहाँ तक की गूगल और फेसबुक जैसी बड़ी कंपनी भी OTP सर्विस को अपने यूजर्स के सुरक्षा के लिए इस्तेमाल करने लगे हैं। OTP कोड के बिना पेमेंट वॉलेट, नेट बैंकिंग, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन जैसी कोई भी प्रोसेस कम्पलीट नहीं होगी जिसके वजह से आपका अकाउंट सुरक्षित रहता हैं।



निष्कर्ष,

तो दोस्तों  अभी आपने जाना की " OTP Verification क्या हैं और क्यों हैं जरुरी ? " उम्मीद हैं की आपको ये पोस्ट जरूर अच्छी लगी होगी।  इसी तरह की नई नई जानकारिया सबसे पहले पाने के लिए हमें Newsletter से सब्सक्राइब जरूर करें। अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चले और इसका फायदा उठा सकें।